बरसात की बूँदें

Standard

बरसात की बूँदों के स्पर्श ने एहसास दिलाया
की मैं अपना बचपन दूर कहीं छोड़ आया

दिन – महीने – साल बीत चुके हैं
नहीं याद बरसात में खुद को कब भीगाया

इस भीड़ में खुद की पहचान बनाते बनाते
शायद मैं खुद को ही कहीं खो आया

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s